उपह्वरे गिरीणां संगमे च नदीनां। धिया विप्रो अजायत।।

आज संसार पश्चिमी दुनिया के भौतिक वासनात्मक प्रभाव से प्रभावित हो रहा है।

इसके विपरीत पतंजलि गुरुकुलम् का स्नातक अपने सच्चे स्वभाव को जानकर देश व दुनिया कि दशा व दिशा को परिवर्तित करने का सामथ्र्य अपने अन्दर जाग्रत कर सकेगा।

युग के प्रवाह को बदलने में पूर्ण समर्थ एवं पूर्ण जागृत विवेकशील विद्यार्थी पतंजलि गुरुकुलम् में तैयार हो रहे हैं।

 

संपर्क करें (Contact us)

ई-मेल  –  devprayag@patanjaligurukulam.org

फोन    –  +919068565319, +919068565320

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *